जानते हो एहसास क्या है!

जानते हो एहसास क्या है!


जानते हो एहसास क्या है!
कभी अथाह नीले
समंदर में डूबती
शाम को देखना,
जरा देर खामोशी से
साहिल से टकराती
लहरों के पास बैठकर,
सारी शाम घुल के
फिर पानी में,
लहर बन के आयेगी,
होले से तुम्हारे
पैरों को छू जायेगी
तुम आँख बंद कर
महसूस करना
तुम्हें लगेगा जैसे कोई
ख़्याल तुम्हें होले-होले
खुद में डुबो रहा है
हाँ, एहसास यही है
ये जो अभी तुम्हें हो रहा है...

जानते हो एहसास क्या है!

Comments

Popular posts from this blog

कोई तुमसे पूछे कौन हूँ मैं

घर की खिड़की से जब देखा मैंने,

Poetry about life - घर चाहे कैसा भी हो..